Leave a comment

अभिलाषा

पग-पग में है अभिलाषा ,अनु-अनु में है मृदुभाषा
जीवन है पल-पल इक आशा,”मैं”उस आशा की परिभाषा …..

नन्ही-नन्ही बूंदों और कलियों के,मन-मल्हार के हम साथी
भावों से विचारों तक के हम-तुम हैं इक माझी
पग-पग में है अभिलाषा ,अनु-अनु में है मृदुभाषा
जीवन है पल-पल इक आशा,”मैं”उस आशा की परिभाषा …..

सतरंगी स्वप्नों से आगे बढ़ने और लड़ने की राह
पंख पसार, अपने जग में मानवता भरने की मेरी चाह
पग-पग में है अभिलाषा ,अनु-अनु में है मृदुभाषा
जीवन है पल-पल इक आशा,”मैं”उस आशा की परिभाषा …..

नव-चेतन मेरे मन से,मन के मेरे हर कण-कण से
अनुभव और संभव का नाता,करते-चलते ही बन जाता
पग-पग में है अभिलाषा ,अनु-अनु में है मृदुभाषा
जीवन है पल-पल इक आशा,”मैं”उस आशा की परिभाषा …..

पहचान मेरी है ये ही,उत्सुक आँखों को बतलाऊँ
संयम और धीरज से ही जग में “मैं”कहलाऊँ
पग-पग में है अभिलाषा ,अनु-अनु में है मृदुभाषा
जीवन है पल-पल इक आशा,”मैं”उस आशा की परिभाषा …..

                                                                          – (प्रतिभा)

Advertisements


Leave a comment

I am a Teacher

I listen…
To the wind
To the words said or unsaid
To the laughter and cries
To the child in me
And the child outside
I have wings
I can fly
Fly to different worlds
Worlds that we together create
With our hearts and with our minds
I dance with you
I am with you, my child
And learn with you
I am joyous
I am me
I am a teacher

I see…
The light and the dark
The lowest and the highest
A speck and the universe
You and me
All inside and outside
With my eyes open or closed
I feel your joy in the games you play
I feel your pain when you cry
I see through your tears and smile
Really see who you are
When I see who I am
Dream of harmony and peace
In the inner and the outer world
I rejoice
I am a dreamer
I am me
I am a teacher

I love…
The trees
Oceans and skies
I love…
The rivers
Flowers and mountains
I love you, my child
No matter what you do
And who you are
When you fall
Make a mistake
Stand and rise
Learn and move forward
Your errors and slips
Are dear to me
I believe in you
Each time you do a wrong
You grow
I love that you know
What is more important than right
Is to be aware of your wrong
I grow with you, my child
I am a believer
I am me
I am a teacher


Leave a comment

सपना नए भारत का 

Picture 027

चली हूँ मैं लेके विश्वास
अपने मन में
विश्वास हैं मुझे
नया होगा सवेरा
फूल महकेंगे
छू लेगी हंसी
जो खो गयी है कहीं
स्कूलों की दीवारों में

बच्चे खेलेंगे फिर
नाचेंगे फिर
ना रहेंगे बंधे
किताबों को रटने में
देखेंगे वह तितली के पंख को
जानेंगे वह चींटी के श्रम को
निर्मित करेंगे प्रश्नों को

ऐसा होगा सवेरा वह
जहां काम हाथ का बहुमूल्य होगा
मिट्टी से बनायेंगे जब वह एक मटकी
ना सिर्फ होगी मिट्टी से पहचान
पर अपने इतिहास का होगा ज्ञान
मिट्टी की खुशबू से
जानेंगे वह अपनी संस्कृति को
कैसे हुआ था मोहनजोदारो में मटकी का निर्माण
सदियों के परिवर्तन से उस मटकी में जानेंगे अपनी सभ्यता को
महसूस करेंगे हर्ष प्रवाह का
करेंगे वास्तविक जीवन में उपयोग गणित और जियामेट्री का
भाषा से करेंगे व्यक्त अपने उल्लास को
बन जायेगा हर दिन उत्सव स्कूल का

येह होगा तब शिक्षक बनेगा शिक्षार्थी
न हाथ में कोई डंडा
और न ही कोई चाक
पर बाहों में ताकत तारों को छुने की
और दिल में है आशा
आसमान में उड़ने की
जब मन औरहाथों का होगा मेल
तब होगा सृजन साहस का
बाटेंगे सपनों को
सपने छिन ते थे जहां
अब बनाना है डेरा ख्वाबों का

दिल में है विश्वास
मानव क्षमता पे
जब कर पाएंगे प्रेरित
अपने जीवन से
तभी युवक देखेंगे सपना
एक नए कल का
एक नए भारत का


Leave a comment

The Root Source of Kids’ Unpleasant Behavior

7556589672_dbe7d4720d_h-1024x682

One the many problems of living in an image-based, superficial culture is that we learn to take life at face value. And when it comes to parenting, the knee-jerk response to unpleasant behavior – screaming, hitting, whining – is to try to eradicate it as quickly as possible. We seek quick-fix solutions because it’s uncomfortable to sit with unpleasant behavior, and we’re offered very little tools as parents for how to navigate these uncomfortable times.

A couple of months ago we were struggling with incessant, loud (and I mean ear-shattering loud) screaming from our five-year old. True to my belief that behavior is symptomatic of underlying needs, my husband and I began many brainstorming sessions trying to unlock the root of the screaming: Was he getting enough protein? Enough food? Sleeping enough? Lack of stimulation? Not enough social time with friends? Not enough exercise? A normal developmental stage of being five? Yet every time we thought we had nailed it and implemented our new plan, the screaming continued. Sometimes I would look at my little one and wonder where the easy-going, smiley toddler that used to light up our house with joy ran off to. And would I ever see him again?

Continue reading


2 Comments

The Creation of a Teacher

841434_f520

The Good Lord was creating teachers. It was His sixth day of ‘overtime’ and He knew that this was a tremendous responsibility for teachers would touch the lives of so many impressionable young children. An angel appeared to Him and said, “You are taking a long time to figure this one out.”

“Yes,” said the Lord, ” but have you read the specs on this order?”

TEACHER:

…must stand above all students, yet be on their level
… must be able to do 180 things not connected with the subject being taught
… must run on coffee and leftovers, Continue reading